Posts

किस ओर जा रही भाजपा........

Image
देश की जनता को मुंगेरीलाल के हसीन सपनें दिखाकर सत्ता में आई भाजपा अब निरंकुश सत्ता पाने की लालसा में कुछ भी कर गुजरने को तैयार है। आज हालात ऐसे हो चलें हैं कि देशभर में शासन का झंडा गारने को ललायित भारतीय जनता पार्टी अपनी विचारधारा तक से समझौता करने को राजी है। और इसका ताजा उदाहरण यूपी में देखने को मिला जब राम नाम की राजनीति करनेवाली पार्टी ने राम को ही अपशब्द कहनेवाले को गले से लगा लिया। पार्टी लगातार अपनी विचारधारा को दरकिनार कर अपना दायरा बढ़ाने की जुगत में लगी हुई है। फिर इसके लिये उन्हें चाहे दागियों को ही पार्टी में शामिल क्यों न करना पड़े। पार्टी हरेक हथकंडे को अपनाते हुए अन्य पार्टियों के बड़े और कद्दावर नेताओं को अपने पाले में कर रही है। भाजपा द्वारा भगवान राम का अपमान करनेवाले नरेश अग्रवाल को पार्टी में शामिल किया जाना पार्टी की सबसे बड़ी नैतिक हार है। क्योंकि पार्टी का सबसे बड़ा राजनैतिक आधार रामजन्मभूमि ही है। कहीं ना कहीं भगवान राम और राममंदिर पर ही भारतीय जनता पार्टी की पूरी आधारशिला टिकी हुई है। गठन से लेकर आजतक पार्टी इसी मुद्दे को भूनाते हुए विधानसभाओं से लेकर संसद तक में …

हिंदी दिवस और हिंदी की स्वीकार्यता

Image
भाषिक तौर पे हम एक समृद्ध राष्ट्र के नागरिक हैं। हमारे देश में कुल 1652 मातृभाषायें हैं। इसके साथ ही देशभर में करीब 58 भाषाओं में स्कूलों में पढ़ायी की जाती है। और यही हमारे देश की विशेषता है कि यहाँ विभिन्नता में एकता का सूत्र नजर आता है। और भाषा के क्षेत्र में विभिन्नता में एकता का यह स्वरूप राष्ट्र भाषा हिन्दी के कारण ही अक्षुण है।जहां हमारे संविधान ने देश की अखंडता को बनाये रखने के लिए देश के विभिन्न क्षेत्रों के 22 अलग-अलग भाषाओं को मान्यता प्रादान की है। वहीं इस देश में शास्त्रीय भाषाओं के तौर पे भी संस्कृत, कन्नड़, मलयालम, तेलुगू , तमिल और उड़िया भाषाओं को मान्यता दी गई है। पर इन सबके बीच विश्व में सबसे अधिक बोली जानेवाली द्वितीय भाषा हिन्दी ने राष्ट्र भाषा के रुप में स्वीकृति प्राप्त की है। पर इसके बावजूद हमारे लिए यह बड़े ही संताप का विषय है कि विश्व में सबसे अधिक बोले जानेवाली भाषाओं में अग्रणी स्थान प्राप्त हिन्दी जैसी एक मधुर राष्ट्र भाषा होते हुये भी हमारा चिंतन विदेशी हो गया है। एक गौरवमयी भाषा के अधिकारी होते हुये भी हम अज्ञानीयों की तरह वार्तालाप में अंग्रेजी का प्रयोग क…